You are here
Home > Economics-Business (Hindi) > पतंजलि लेकर आई है स्वदेशी-समृद्धि सिम; मौज उड़ा लो

पतंजलि लेकर आई है स्वदेशी-समृद्धि सिम; मौज उड़ा लो

हज़रात। हज़रात।। हज़रात।।।

मेहरबान-कद्रदान अब मत हो परेशान क्यूँकि आ गया है तेल, मसाले, क्रीम, पाउडर, साबुन, सर्फ, फलां धिनका के बाद पतंजलि का स्वदेशी सिम कार्ड। जी हाँ, बाबा रामदेव भारत संचार नगर लिमिटेड (बीएसएनएल) के साथ मिलकर ले आएं है यह स्वदेशी सिम कार्ड।

इस कार्ड का नाम पतंजलि स्वदेशी-समृद्धि है। और यह फिलहाल पतंजलि के कर्मचारियों के लिए उपलब्ध है। आर्थिक मामलों के पंडित यह अनुमान लगा रहे है कि बाबा रामदेव का यह करतब मुकेश अम्बानी की टेलीकॉम उद्योग में आसन बिगाड़ सकता है। जियो के विरोधी इससे खुश नजर आ रहे हैं, क्यूँकि दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता है।

पतंजलि का यह सिम कार्ड अपने उपभोक्ताओं को असीमित कॉल की सुुविधा के साथ 2 जीबी रोजाना शुद्ध* डाटा मुुहैय्या करवायेगा; साथ ही 100 एसएमएस तो मुफ्त होंगे ही होंगे और ये सारा कुछ मात्र ₹144 में।

अरे बंधु आगे और सुनो… इस सिम के साथ आगे हमें मिलेगा स्वास्थ्य, आकस्मिक दुर्घटना तथा जीवन बीमा का लाभ। यह ढाई लाख से 5 लाख के बीच होगा। मतलब की बाबा रामदेव ने बीमा वालों को भी साष्टांग चुनौती दे दी है। बहरहाल, इन सब के बीच की प्रतियोगिता में हम जैसे मध्यम वर्गीय नागरिकों की मौज है।

यह सारा कुछ पतंजलि, भारतीय टेलीकॉम कम्पनी बीएसएनएल के साथ मिलकर देगी। बीएसएनएल के लिए पतंजलि का साथ मिलना शेन वॉट्सन का चेन्नई सुपरकिंग में आने जैसा हो सकता है। गौरतलब है कि बीएसएनएल की हालत किसी वृद्ध अभिभावक जैसी है, जिन्हें घर मे कोई नहीं पूछता। पतंजलि का साथ मिलना बागबान की पटकथा याद दिलाता है।

खैर, बाबा रामदेव का कहना है कि पतंजलि सिम इस देश की जनता के लिए है और इससे उन्हें मुनाफा नही चाहिए। हालांकि मार्च 2017 तक पतंजलि समूह की कुल आय ₹1193.8 करोड़ रुपये थी। फिलहाल ये सिम पतंजलि के कर्मचारियों के लिए उपलब्ध है, पर बहुत जल्द यह 10 प्रतिशत की छुट के साथ मेरे जैसे आम मानुष के लिए भी उपलब्ध होगा।

अंत मे बाबाजी से एक ही निवेदन है कि सिम लेने की दुकान पर चाय-पानी-जलजीरा के साथ पंखे का बंदोबस्त भी करवा दें, क्यूँकि गर्मियों में लाइन में लगे-लगे घमौरियाँ हो जाती है। 😛

Pawan Raj
Pawan Raj
Pawan Raj is a dreamer who has dreamed of bringing citizen journalism to the masses. That is how THE HIND PARIDHAN came into existence.

4 thoughts on “पतंजलि लेकर आई है स्वदेशी-समृद्धि सिम; मौज उड़ा लो

Comments are closed.

Top